जंग और हम

जंग अब शुरू हो चुकी है
तुम और मैं इस जंग का हिस्सा ज़रूर हैं
पर हम लड़ते नहीं हैं
हम लाशें उठाते हैं
और उन लाशों के ताविजों से
उनका मज़हब निकालते हैं
हंसते हैं यह सोचकर कि
ना वो जिंदा है जिसने यह आग लगाई
ना वो कायम हो पाया जिसने आग भड़काई
रह गए तो बस हम
जो ना शरीक हुए ना दूर रह पाए
जो जिंदा तो हैं पर कायम नहीं
जो हैं पर फ़िर भी नहीं

इन लाशों में ज़िंदगी ढूंढना इतना आसान नहीं
इन राहों पर चलना इतना भी ज़रूरी नहीं
कहीं दूर चलते हैं
वहीं जहां नफ़रत का नामो निशान नहीं
वहीं जहां मैं और तुम ना हो
हो तो सिर्फ़ हम
इन मज़हबों से ऊपर
इन फिरकों से आगे
मौत के इंतज़ार में
ख़ुदा से सवाल करेंगे
की सच आखिर है क्या ?
की काफ़िर कौन है ?
जिसने उसके नाम पर सबको मारा
या जिसने उसका नाम लिए बिना उसकी उम्मत को संभाला?

और जिस दिन हम सच जान लेंगे
वापस आयेंगे
इन लाशों को उठाने
एक राख को दूसरी मिट्टी से मिलाने
ख़ून से लबरेज़ इस अंबर को सजाने ।
वापस आयेंगे एक दिन
इस याद में
की मिट्टी का कोई मज़हब नहीं
वो तो लाशों को दफ़नाने से बाद भी
राख़ से बागबाँ बनाती है ।

©/® समीरा मंसूरी

In war, the love shields

You don’t say that we are dying if we are standing amid a war.

You say that we are living.

through our hands in the debris, our walls falling, 

and roofs shattering. Our bodies are bleeding from the bones.

You don’t say we are breaking.

You say we are making. An alphabet a time.

you spell r e v o l u t i o n

We don’t tie a bandage. We don’t nurse the wound.

We take a handful of seeds, and bloom.

We plough our blood, we shed a tear or two.

You don’t say we are crying.

You say we are breathing.

one breath at a time.

enough for the downfall of a regime

We grow out of this skin. Our homes are all empty.

We are in the streets that leads to the home

that won’t come under the bulldozer.

for the walls of our hearts, our chambers are filled with debris

We bury our companions each night. We bury ourselves too,

little by little.

You don’t say that we are fighting a war.

You say we are documenting a change.

for wars were never right

and will never be.

You don’t say that we are under a panic attack. You don’t say that we are under threat.

I hold your hands. Kiss your wounds as the wall falls.

We lie on the floor. Talk to the stars.

You don’t say that we are dying.

You say that we are making love.

for war will only end when you and I 

began to love

each other and this world.

And all those who make this world. Our pea plant. Our birds in the cage. Our fishes in the water.

Our turtle under the bed.

So hold hands. The world has just begun to bleed,

and love is the bandage we all will need.

© Sameera Mansuri 2021.